Writer of Song “O’ Mere Shahe Khuban”

“O’Mere Shah-E-Khubaan, O’Meri Jaan-E-Janana,

Tum Mere Paas Hote Ho, Koi Doosra Nahin Hota”   

Question – Who is the writer of the Song “Oh Mere Shahe Khuban”?

Answer – Lyricist Hasrat Jaipuri is the Writer of the Song “Oh Mere Shahe Khuban”

for the Film “Love In Tokyo”

Lyricist Hasrat Jaipuri created Unique Urdu Words while writing this Superhit song –

The melodious voice of Mohammed Rafi (Solo Male Version) and

Lata Mangeshkar (Solo Female Version) made it hummable for everyone.                                       

Film – Love in Tokyo –

Music Director – Shankar Jaikishan

Actors – Joy Mukherji and Asha Parekh

O’Mere Shah-E-Khubaan, O’Meri Jaan-E-Janana,

Tum Mere Paas Hote Ho, Koi Doosra Nahin Hota,     

Tum Mere Paas Hote Ho, Koi Doosra Nahin Hota,     

Kab Khayalon Ki Dhoop Dhalti Hai,

Har Kadam Par Shama Si Jalti Hai,

Mera Saaya Jidhar Bhi Jaata Hai,

Teri Tasveer Saath Chalti Hai,

O’Mere Shah-E-Khubaan, O’Meri Jaan-E-Janana,

Tum Mere Paas Hote Ho, Koi Doosra Nahin Hota,     

Tum Ho Sehra Mein Tum Gulistaan Mein,

Tum Ho Zarron Mein, Tum Biyabaan Mein,

Maine Tumko Kahan Kahan Dekha,

Chupke Rehto Ho Tum Rag-E-Jaan Mein,

O’Mere Shah-E-Khubaan, O’Meri Jaan-E-Janana,

Tum Mere Paas Hote Ho, Koi Doosra Nahin Hota,     

Meri Ankhon Ki Justju Tum Ho,

Iltija Tum Ho Aarzoo Tum Ho,

Main Kisi Aur Ko To Kya Janu,

Meri Ulfat Ki Aabru Tum Ho,

O’Mere Shah-E-Khubaan, O’Meri Jaan-E-Janana,

Tum Mere Paas Hote Ho, Koi Doosra Nahin Hota.     

इस सुपरहिट गीत को लिखते समय गीतकार हसरत जयपुरी ने अनोखे उर्दू शब्द ईजाद किये हैं.

सोने पे सुहागा ये है की मोहम्मद रफ़ी ने अपनी शानदार आवाज़  देकर इस गीत को अमर बना दिया है,  

और लता मंगेशकर की मधुर आवाज ने इसे मधुर बना दिया है।

फिल्मलव इन टोक्यो

गीतकारहसरत जयपुरी

संगीत निर्देशकशंकर जयकिशन

गायक कलाकार –  मोहम्मद रफ़ी (जॉय मुख़र्जी के लिए गाया है)

गायक कलाकार –  लता मंगेशकर (आशा पारेख के लिए गाया है)

कलाकार जॉय मुख़र्जी और आशा पारेख

ओ’ मेरे शाह-ए-खुबां, ओ’ मेरी जान-ए-जनाना,

तुम मेरे पास होते हो, कोई दूसरा नहीं होता,

तुम मेरे पास होते हो, कोई दूसरा नहीं होता,

कब ख्यालों की धूप ढलती है,

हर कदम पर शमा सी जलती है,

मेरा साया जिधर भी जाता है,

तेरी तस्वीर साथ चलती है,

ओ’ मेरे शाह-ए-खुबां, ओ’ मेरी जान-ए-जनाना,

तुम मेरे पास होते हो, कोई दूसरा नहीं होता,

तुम हो सेहरा में तुम गुलिस्तां में,

तुम हो ज़र्रों में, तुम बियाबां में,

मैंने तुमको कहां कहां देखा,

चुपके रहतो हो तुम रग-ए-जान में,

ओ’ मेरे शाह-ए-खुबां, ओ’ मेरी जान-ए-जनाना,

तुम मेरे पास होते हो, कोई दूसरा नहीं होता,

मेरी आँखों की जुस्तजू तुम हो,

इल्तिजा तुम हो आरज़ू तुम हो,

मैं किसी और को तो क्या जानू,

मेरी उल्फत की आबरू तुम हो,

ओ’ मेरे शाह-ए- खुबां, ओ’ मेरी जान-ए-जनाना,

तुम मेरे पास होते हो, कोई दूसरा नहीं होता।

(Image: Google Images)

(Video courtesy YouTube)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: