Mausam Suhane Aa Gaye Hain

(Photo courtesy Pexels)

Pyar Ke Zamane Aa Gaye Hain

Producer – A.V. Subba Rao

Director – T. Rama Rao

Lyrics – Anand Bakshi

Music – Laxmikant Pyarelal

Actors

Jeetendra

Rekha

Ashok Kumar

Asha Sachdev

Shoma Anand

Aruna Irani

Tamanna

Asit Sen

Sachin

Arun Govil

A.K. Hangal

Madan Puri

Deven Varma

Madhu Malhotra

Helen Luke

Songs

1.Maar Gayi Mujhe Teri Judai, Dass Gayi Yeh Tanhai,

Teri Yaad Jo Ayi To, Ankhon Mein Need Nahin Ayi

Singers-Kishore Kumar – Asha Bhosle

2.Bansi Bajao Bansi Bajaiya,

  Charon Taraf Gopiyaan, Beech Mein Mein Kanhaiya

  Singers-Kishore Kumar – Anuradha Paudwal

3.Tere Naam Ke Hum Deewane Hain

   Tere Pyar Ke Din Suhane Hain

  Singers-Amit Kumar-Chandrani Mukherjee  

4.Apno Ko Jo Thukrayega, Gairon Ki Thokarein Khayega

   Ek Pal Ki Galatfahami Ke Liye, Sara Jeevan Pachhtayega

  Singer – Mohmed Rafi

5.Mausam Suhane Aaa Gaye, Pyar Ke Zamane Aa Gaye

  Singers – Mohmed Rafi-Asha Bhosle

6.Samne Aa Dekhe Zamana Sara Samne Aa,

   Maine Pukara Tujhe Maine Lalkara Tujhe,

  Samne Aa, Dekhe Zamana Sara Samne Aa

  Singers-Kishore Kumar – Asha Bhosle

Story – As the title suggests, Judai is leaving their spouse during the dawn of life and meet again at the sunset of life. 

Jeetendra, a doctor by profession has to marry his servant’s daughter Rekha to fulfill his father’s last wish.

They both are grown together so know each other very well. Rekha is aware of Jeetendra having several girlfriends. Jeetendra and Rekha have one Son (young Sachin) and Rekha is pregnant.

After marriage she suspects his girlfriend Asha Sachdev having affair with him. She sees them together many times, as Jeetendra is treating her daughter.  Jeetendra and Rekha quarrel regularly and one day decides to leave

each other.  Jeetendra keeps his son with him.

 Rekha gives birth to another son (young Arun Govil). Years pass Young Sachin and Arun Govil work at the same place and become friends.  They Get married to their loved ones. The daughter-in-law of Jeetendra and  Rekha treats them badly.

 They both realize that real companion in life is none other than the spouse. All ends well at a good note. At last the long Judai ends in love and affection for each other.

कहानी – जैसा कि शीर्षक से पता चलता है, जुदाई, पति पत्नी

जीवन की सुबह के दौरान अपने जीवनसाथी को छोड़कर जीवन के सूर्यास्त के समय फिर से मिलते हैं।

पेशे से डॉक्टर जीतेन्द्र को अपने पिता की अंतिम इच्छा को पूरा करने के लिए अपने नौकर की बेटी रेखा से शादी करनी पड़ती है।

वे दोनों एक साथ बड़े हुए हैं इसलिए एक-दूसरे को बहुत अच्छी तरह से जानते हैं। रेखा को जीतेंद्र के कई गर्लफ्रेंड होने की जानकारी है। जीतेंद्र और रेखा का एक बेटा (युवा सचिन) है और रेखा फिर से गर्भवती है।

शादी के बाद रेखा को शक है कि जीतेंद्र की प्रेमिका आशा सचदेव उसके साथ अफेयर कर रही है। वह उन्हें कई बार एक साथ देखती है, क्योंकि जीतेंद्र आशा सचदेव की बेटी का इलाज कर रहे हैं। जीतेंद्र और रेखा नियमित रूप से झगड़ा करते हैं और एक दिन एक दूसरे को छोड़ने का फैसला करते हैं।जीतेंद्र अपने बेटे (युवा सचिन)  को अपने साथ रखते हैं।

रेखा एक और बेटे (युवा अरुण गोविल) को जन्म देती है। सालों बीत जाते हैं, यंग सचिन और अरुण गोविल एक ही जगह पर काम करते हैं और दोस्त बन जाते हैं। उन्होंने अपनी अपनी प्रेमिका से शादी कर ली है। जीतेंद्र और रेखा की बहू उनके साथ बुरा बर्ताव करती है।

वे दोनों महसूस करते हैं कि जीवन में वास्तविक साथी कोई और नहीं बल्कि जीवनसाथी है। जीतेंद्र और रेखा फिर से एक साथ रहना चाहते हैं, आखिर में लम्बी जुदाई एक दूसरे के लिए प्यार और स्नेह में समाप्त होती है। प्रेम और स्नेह अब भी एक दूसरे है।

 Friends, Please comment.

*************

%d bloggers like this: