Kohra-A Suspense Thriller Film

FILM – KOHRA (THE FOG)

A Classic Vintage Film

Year of Release 1964

Cast

Biswajit

Waheeda Rehman

Abhi Bhattacharya

Asit Sen

Madan Puri

Tarun Bose

Badri Prasad

Sujit Kumar

Lalita Pawar

Shaukat Azmi

Producer, Singer,  and Music Director – Hemant Kumar

Director – Biren Naag

Lyrics – Kaifi Azmi

Songs

1.Yeh Nayan Dare Dare,

Yeh Jaam Bhare Bhare,

Zara Peene Do

Jhoom Jhoom Dalti Raat

Leke Chali Mujhe Apne Saath,

Jhoom Jhoom Dalti Raat

2.Raah Bani Khud Manzil

Peechhe Reh Gayi Mushkil

Saath Jo Aye Tum

3.Kahe Bajai Tune Papi Bansuriya

4.O’Bekarar Dil, Ho Chuka Mujhko Ansuon Se Pyar,

Mujhe Tu Khushi Na De, Nayi Zindagi Na De,

O’Bekarar Dil

Story

In Film Kohra, Waheeda Rehman meets a rich man Biswajit.

They both fall in love and get married. Biswajit brings the new bride

Waheeda Rehman to his home. It is a huge mansion with all vintage

antiques and curtains. Waheeda Rehman learns from servants about

Biswajit’s first wife died in mysterious circumstances about a year ago.

The housekeeper Lalita Pawar, who was also the nanny of Biswajit’s First Wife

is visibly disturbed by Biswajit marrying again and does not like Waheeda Rehman.

Biswajit leaves on a business trip for a few weeks and Waheeda Rehman is left to

herself. This is when she encounters supernatural phenomena in the mansion

and is haunted by the memories and spirit of Biswajit’s first wife.

Recovering from the shock, Waheeda Rehman decides to do her own investigation

of  Biswajit’s first wife’s mysterious death. One by one she uncovers shocking dark

secrets about Biswajit, his first wife, and various other people.

The film was adapted from Daphne Du Maurier’s novel “Rebecca”.

Noted Filmmaker Alfred Hitchcock also made the film “Rebecca,

with a supernatural twist.

Kohra is a classic film.

Friends, I am sure you liked reading this feature, please comment.

कोहरा (Fog)

कहानी

वहीदा रहमान की मुलाकात एक अमीर आदमी बिस्वजीत से होती है। उन दोनों को एक दूसरे से प्यार हो

जाता है और वह दोनों शादी कर लेते हैं। बिस्वजीत नई दुल्हन वहीदा रहमान को अपने घर लाता है ,

जो के पुरानी आलीशान हवेली है । वहीदा रहमान को बिस्वजीत की पहली पत्नी के बारे में नौकरों से पता

चलता है, जिनकी करीब एक साल पहले रहस्यमय परिस्थितियों में मौत हो गई थी। घर सँभालने वाली

नौकरानी ललिता पवार, जो बिस्वजीत की पहली पत्नी को बचपन से संभालती थी, बिस्वजीत के दोबारा

शादी करने से काफी परेशान हैं और वहीदा रहमान को पसंद नहीं करती हैं।

बिस्वजीत कुछ हफ्तों के लिए व्यापार यात्रा पर जाता है और वहीदा रहमान घर पर अकेला छोड़ के जाता है।  

तब वहीदा रहमान को डरावने सपने आते हैं होता और बिस्वजीत की पहली पत्नी की आत्मा डराती डरती है।

जब वह सपने से बाहर आती, वहीदा रहमान  बिस्वजीत की पहली पत्नी की रहस्यमय मौत की जांच  

करने का फैसला करती है।  एक-एक कर वह बिस्वजीत, उसकी पहली पत्नी और अन्य लोगों के बारे में

चौंकाने वाले काले रहस्य उजागर होते हैं।

फिल्म को डैफेन ड्यू मेयर के उपन्यास “रेबेका” से रूपांतरित किया गया था।

 प्रख्यात फिल्मकार अल्फ्रेड हिचकॉक ने भी  फिल्म “रेबेका” बनाई है।

कोहरा एक क्लासिक फिल्म है।

दोस्तों, मुझे यकीन है कि आपको यह फीचर पढ़ना पसंद आया होगा, कृपया कमेंट करें।

(Photo courtesy Pexels)

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

%d bloggers like this: