Bhoot Bangla- A Suspense Comedy Film

 

“Jago Sone Walon-Suno Ek Kahani”

A Superb Suspense Comedy Film

Bhoot Bangla (Year of Release 1965) 

Cast

Mehmood-Tanuja-Nazir Hussain-Mohan Choti-R.D. Burman

Nana Palshikar-Shivraj-Moni Chatterjee-Asit Sen

Producer-Usman Ali

Director – Mehmood

Music Director – R.D. Burman-Kishore Kumar-Manna Dey

Lyrics – Hasrat Jaipuri

Songs

1.Jago Sone Walo, Suno Meri Kahani

Singer-Kishore Kumar

2.Aao Twist Karen-Ya Khuda Mausam

Singer-Mehmood

3. O Mera Pyar Aaja

Singer-Lata Mangeshkar

4. Ek Sawal Hai

Singer-Kishore Kumar

5. Main Bhookha Hoon Tujhe Kha Jaunga

Bhoot Bangla

Singer-R.D. Burman

6.Pyar karta Ja, Pyar Karta Ja,

Dil Kehta Hai, Dil Kehta Hai,

Katon Mein Bhi Gul Khila De.

Singer-Manna Dey

Story

Fifty years ago, Tanuja’s Uncle was murdered and his wife and child vanished on a dark night,

at the haunted bungalow surrounded by jungle on the outskirts of Mumbai.

At Present Tanuja’s three uncles Nazir Hussain, Nana Palshikar, and Ramu are living in the bungalow.

On the eve of Nana Palshikar’s daughter Tanuja’s return from London, Nana Palshikar is killed in a car

accident and is suspected of murder. The suspicion is reinforced when Ramu is found hanging in his

bedroom on the same night. Post-mortem reports claim he was murdered before being hanged.

Nazir Hussain and Tanuja move out of the bungalow to their home in the city and live there.

However, Tanuja receives threatening phone calls about her death.

She meets Mehmood, the president of a local youth club when he defeats her in a music competition.

She soon confides to Mehmood about the phone calls and Mehmood begins to investigate the calls.

Tanuja and Mehmood fall in love with each other.

In the end, the mystery is solved and all ends on a happy note.

Image Credit – Usman Ali-Film Producer.

 Bhoot Bangla is a suspense comedy film, good to watch.

भूत बंगला

कहानी

पचास साल पहले, तनुजा के चाचा की हत्या कर दी गई थी और उनकी पत्नी और बच्चे को अंधेरी रात में गायब कर दिया गया था,

मुंबई के बाहरी इलाके में एक जंगल से घिरा हुआ उनका बंगला था।

वर्तमान में तनुजा के तीन चाचा नजीर हुसैन, नाना पलशीकर और रामू बंगले में रहते हैं। नाना पालशीकर की बेटी तनुजा के लंदन

से लौटने के दिन, नाना पलशिकर की एक कार दुर्घटना में मौत हो जाती है, पुलिस को हत्या होने  का संदेह है। रामू को भी उसी रात

अपने शयनकक्ष में लटका पाया गया, पोस्टमार्टम रिपोर्ट में दावा किया गया है कि फांसी दिए जाने से पहले उनकी हत्या कर दी गई थी।

पुलिस खुनी की तलाश कर रही है।

नजीर हुसैन और तनुजा, बंगले को खाली करके शहर में अपने घर चले जाते हैं और वहीं रहते हैं। तनुजा को उसकी मौत के बारे में

धमकी भरे फोन आते हैं।

तनूजा की मुलाकात युवा क्लब के अध्यक्ष महमूद से होती है, जब वह उसे एक संगीत प्रतियोगिता में हरा देता है। तनूजा को महमूद

से प्यार हो जाता है। वह महमूद को फोन कॉल के बारे में बताती है और महमूद कॉल की जांच शुरू करता है। अंत में रहस्य हल हो जाता है

और सभी राज़ी ख़ुशी रहते हैं ।

भूत बंगला अच्छी फिल्म है।

(Photo courtesy Pexels)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: