Caretaker-Story-English-Hindi

I am my husband’s Caretaker 
Friends this is a real story, I have fictionalized in my way, your version may be different
from me, please comment.
Keshav Mehta, a top-grade executive in a Multi-National Company is a very busy man
with a successful career. His wife Sharda also an educated and graceful woman preferred
to be a good housewife, they have a daughter Kanchan, married to a Neurologist, and
settled in Chicago.  She has two children and her placement agency business. She is in
touch with her parents on the phone. Keshav and Sharda have their group of friends, who
normally meet each other every month.
Their much younger Friend Couple Shobha and Amritlove each other very much but do
not have children.  They are very rich and want to go for IVF.
Another couple Prerna and Ashish, their daughter is not happy with in-laws and wants
to shift with her parents, but her husband is against it as he is very much attached to his Mother.
Couple Sunita and Nikhil have Twin Sons, both do not want to get married, but want to leave
them for the USA for further studies and will settle there.
Maya and Suresh have a row of 5 daughters, elder one does not want to marry, but the alliance,
which came for their 2nd daughter liked elder one. Too much confusion at home.
Kedar Sen, a bachelor in the crowd is a psychologist, so ambitious did not have time to get married.
One evening, during their get-together, Keshav complained of feeling dizzy and had a severe
headache. A few minutes back he was OK, but now found difficulty in balancing himself.
Sharda felt it may be due to over-exertion of work. Dr. Sen checks him and suggests few tests
and a few days rest. (Actually, Keshav had a fall a few days back from office stairs and was
unconscious for few minutes).
As suggested Keshav does the tests, the MRI and CT Scan, etc. And shows its reports to his friend
Dr. Kedar Sen.Dr. Sen finds something wrong in the reports, but does not reveal anything, till
Keshav gets bouts of pain again.
Sharda is worried and asks Kedar not to keep her in dark, so he tells her that Keshav is suffering
from memory loss disease due to fall), which affects older people. The patient starts forgetting
names, surroundings, and gradually day to day activities. But this is a gradual process,
the Patient can survive for years, but dependent on someone to look after him. Never to leave him
alone, as he will be forgetful. He will gradually forget his past even you and your daughter.
Sharda tells this to her daughter, who feels very sad for her parents. Their doctor son-in-law
gives them advice on what to do and what not to do.
All suggests him to resign the job and be at home, but Keshav is adamant to go to the office.
At the office, he makes many mistakes and is offended by juniors for his forgetfulness. At last
not able to accept the taunts of his office colleagues, he resigns.
The first stroke is a blow for both Keshav physically and mentally and Sharda emotionally.
Keshav always kind and compassionate, used to become irritable and wild, after that it was very
difficult for Sharda to cope with. Being in and out of Hospitals drained her energy and strength.
She feels someone should be with her for support, but you as a parent do not want to put your child’s
future at stake. In this crucial time, Dr. Kedar Sen is a help. Also, a Boy from Bureau is helping her
during the day.
One day keeping Keshav in the boy’s care Sharda goes to buy medicines and fruits. Back home she rings
the bell and Keshav opens the door instead of the Boy. He asks her ‘Who are You, Whom you want
to meet’.She is shocked. As said by Dr. Kedar, Keshav has forgotten her.  She tells him that she is his
‘Caretaker’. She looks after the house and him.
She informs this to her daughter and Dr. Kedar. Now she wants to relieve the boy for-ever and be
with Keshav alone in the last few months of his life. She removes all photographs and other
material from home, which showed her marital relation with him. She was an educated woman
and new symptoms of her deteriorating husband, which was evidence that he will survive
only for a few months as day to day he became dependent on her.
Their friends now and then visit them and pray God to revive his memory back, but in vain. Her
daughter wants to come but the children are busy in their exams, who will look after the business in
her absence, as building business is so difficult. Her doctor husband is continuously in touch with
Dr. Kedar and Sharda for feedback.
One fateful day Keshav passes away.Dr. Kedar and friends are of great help. Her daughter wanted
to come, but Sharda stops her and tells her that after a few months she will sell her home and go for
rental accommodation. She will use its money for the betterment of disabled and senior citizens,
who need to be looked after with affection and tender care. She will be their ‘CARETAKER’.

“केयरटेकर”

केशव मेहता, एक मल्टी नेशनल कंपनी में सलाहकार है, वह  एक सफल कैरियर के साथ एक बहुत व्यस्त आदमी है। उनकी पत्नी
शारदा भी शिक्षित और शालीन महिला है, वह एक अच्छी गृहिणी बनना पसंद करती है, उन की एक बेटी कंचन है, एक न्यूरोलॉजिस्ट
से शादी करके शिकागो में बस गईं है। उसके दो बच्चे हैं और उसका प्लेसमेंट एजेंसी का व्यवसाय है। वह फोन पर अपने मातापिता
के संपर्क में है। केशव और शारदा के अपने मित्र हैं, जो आम तौर पर हर महीने एकदूसरे से मिलते हैं।
उनके जवान दोस्त शोभा और अमृत एकदूसरे से बहुत प्यार करते हैं, लेकिन बच्चे नहीं हैं। वे बहुत अमीर हैं और आईवीएफ के लिए
जाना चाहते हैं।
प्रेरणा और आशीष की बेटी सास ससुर से खुश नहीं है और अपने मातापिता के साथ शिफ्ट होना चाहती है, लेकिन उसका
पति इसके खिलाफ है क्योंकि वह अपनी माँ से बहुत प्यार करता है।
सुनीता और निखिल के जुड़वां बेटे हैं, दोनों शादी नहीं करना चाहते, लेकिन आगे की पढ़ाई के लिए अमेरिका जाना चाहते हैं और वहीं
बस जाना चाहते हैं।
माया और सुरेश की पाँच बेटियाँ हैं, बड़ी बेटी शादी नहीं करना चाहती, लेकिन लड़का छोटी बहन को पसंद करता है, इस वजह से घर में
बहुत ज्यादा कन्फ्यूजन है

केदार सेन, एक मनोवैज्ञानिक है, बहुत ज्यादा महत्वाकांक्षी इसलिए वह कभी शादी नहीं करना चाहता था

एक शाम की पार्टी के दौरान केशव को चक्करआता है और सिरदर्द कीहोता है, कुछ मिनट पहले वह ठीक थालेकिन अब खुद को संतुलित

रखना मुश्किल लग रहा है।

शारदा को लगता है कि यह काम की अधिकता के कारण हो सकता है। डॉ। सेन उसकी जाँच करते हैं और कुछ परीक्षण और कुछ दिनों के

आराम का सुझाव देते हैं। (दरअसल केशव कुछ दिनों पहले ऑफिस की सीढ़ियों से गिर गया था और कुछ मिनटों के लिए बेहोश हो गया था

केशवअपने दोस्त डॉ. केदार सेन को एमआरआई और सीटी स्कैन अपनी रिपोर्ट दिखाते हैं। डॉ। सेन रिपोर्ट में कुछ गलत पाते हैं, लेकिन

कुछ भी प्रकट नहीं करते हैं, तब तक,जब तक केशव फिर से दर्द का शिकायत नहीं करता।

शारदा को केशव की चिंता हैवह केदार से केशव की बीमारी का खुलासा करने के लिए कहती है, डॉक्टर केदार उसे बताते हैं
कि गिरने के कारण केशव स्मृति हानि की बीमारी से पीड़ित है), जो वास्तव मेंबुज़ुर्ग लोगों को होती है। रोगी नाम, खुद
के घर का पता और धीरेधीरे दिनप्रतिदिन की गतिविधियों को भूलने लगता है। लेकिन यह क्रमिक प्रक्रिया है। रोगी वर्षों
तक जीवित रह सकता है, लेकिन अपनी देखभाल के लिए किसी पर निर्भर रहता है। कभी भी उसे अकेला छोड़ें, क्योंकि वह
भुलक्कड़ होगा। वह धीरेधीरे अपना अतीत यहां तक ​​कि आप और आपकी बेटी को भी भूल जाएगा। शारदा अपनी बेटी को
यह बात बताती है, जो अपने मातापिता के लिए बहुत दुखी महसूस करती है। उनके डॉक्टर दामाद उन्हें सलाह देते हैं कि उन्हें
क्या करना है और क्या नहीं।
सभी दोस्त उसे नौकरी से इस्तीफा देने और घर पर रहने का सुझाव देते हैं, लेकिन केशव अपनी नौकरी छोड़ने के लिए तैयार
नहीं है। कार्यालय में वह कई गलतियाँ करता है और अपनी भूल के लिए जूनियर्स पर नाराज होता है। वे भी उसके साथ बहुत
बुरा व्यवहार करते हैं इसलिए उन्हें इस्तीफा देने के लिए मजबूर किया जाता है
पहला स्ट्रोक केशव के लिए शारीरिक और मानसिक रूप से और शारदा के लिए भावनात्मक रूप से भारी है। केशव का स्वभाव
का हमेशा दयालुहै, शायद बीमारी के कारण वह रोज चिड़चिड़ा और गुस्सा होता है,शारदा के लिए सामना करना बहुत मुश्किल
हो जाता है। अस्पतालों से अंदर और बाहर होने से उसकी ऊर्जा और ताकत खत्म हो गई है।
शारदा को लगता है कि किसी को (बेटी कंचन) उसके साथ में होना चाहिए, लेकिन मातापिता अपने बच्चे के भविष्य को दांव
पर नहीं लगाना चाहते हैं। इस निर्णायक समय में डॉ। केदार सेन एक मददगार हैं। इसके अलावा ब्यूरो का एक लड़का दिन के
दौरान उसकी मदद कर रहा है।
एक दिन शारदा केशव को लड़के की देखभाल में रख के दवा और फल खरीदने जाती है। घर लौटने पर वह दरवाजे की घंटी बजाती
है और बॉय की जगह केशव दरवाजा खोलता है। वह उससे पूछता हैतुम कौन हो’, किससे मिलना चाहते हो वह हैरान है, जैसा
कि डॉ. केदार ने कहा था, केशव उसे भूल गए हैं। वह उसे बताती है कि वह उनकीकेयर टेकरहै। वह घर की और उनकी देखभाल
करती है।
शारदा इसकी सूचना अपनी बेटी और डॉ. केदार को देती है। वह हमेशा के लिए लड़के को छुट्टी देती है। वह खुद अंतिम दिनों में केशव
की देखभाल करना चाहती है और अपना समय उसकी देखभाल के लिए समर्पित करती है। वह घर से सभी तस्वीरों और अन्य
सामग्रियों को हटा देती है, जोदोनो के वैवाहिक संबंध को दर्शाती है। वह एक शिक्षित महिला है केशव की बिगड़ती हालत स्पष्ट
संकेत है कि वह अधिक जीवित नहीं रहेगा, वह पूरी तरह से उस पर निर्भर है।
उनके दोस्तउनसे मिलने आते हैं और भगवान से उनकी याददाश्त वापस लाने की प्रार्थना करते हैं, सब व्यर्थ है। उसकी बेटी आना
चाहती है लेकिन बच्चे अपनी परीक्षा में व्यस्त हैं, और उसकी अनुपस्थिति में उसके व्यवसाय की देखभाल कौन करेगा, क्योंकि
व्यवसाय बनाना बहुत ज्यादा मुश्किल है। उनके डॉक्टर पति लगातार डॉ. केदार और शारदा के संपर्क में हैं।
एक दिन केशव की मृत्यु हो जाती है। डॉ. केदार और दोस्त बहुत मदद करते हैं। उसकी बेटी आना चाहती है, लेकिन शारदा उसे रोक
देती है और उसे बता देती है कि कुछ महीनों के बाद वह अपना घर बेच देगी और वह किराये के घर में रहेगी। वह अपने पैसे का
उपयोग विकलांग और वरिष्ठ नागरिकों की बेहतरी के लिए करेगी, जिन्हें स्नेह और कोमलता से देखभाल करने की जरूरत है।
वह उनकीकेयर टेकरहोगी।
(Photo courtesy Pexels)
********************
Friends, hope you like the story, please comment and give your suggestions.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: